मेरे दिल की तस्वीर..

मेरे दिल की तस्वीर हो तुम ,

कैसे तुम्हे भूल जाऊं

इस ज़िन्दगी की तक़दीर हो तुम

कैसे मैं अपनी किस्मत बदल जाऊं

तुम आहों के करीब रहते हो

कैसे मैं तुम्हे दूर कर जाऊं

इन दुनिया वालों की नफरतों में

कैसे मैं भी शामिल हो जाऊं

शिकायतें सभी को होती हैं

क्यों न मैं चाहतों के दीए जलाऊं

मिलोगे तुम कभी मुझे दिल कहता है

क्यों न इस दिल की बात का यकीन कर जाऊं

वेसे तो वक़्त गुज़रते देर नहीं लगती

जी कहे इस लम्हे में मैं थम जाऊं

तुम्हे चाहने वाले हज़ारों हैं

आज उन में एक नाम,

अपना भी शामिल कर जाऊं!!

Advertisements

19 Comments Add yours

  1. Abhay says:

    Today id World Poetry Day, and you commemorated the day with a very nice poem. ☺️

    Liked by 2 people

    1. Thank you so much.. But, not nicer than yours😊

      Liked by 1 person

      1. Abhay says:

        Ary nahi aisa nahi hai☺️

        Liked by 1 person

      2. No no, it’s true 😊

        Like

      3. Abhay says:

        Ary nahi 😀

        Liked by 1 person

    2. And I am not able to comment on your post. Don’t know why..

      Liked by 1 person

      1. Abhay says:

        Even I don’t know ☺️ Some other people have commented.

        Like

      2. May be I need to try again. Lemme see 😊

        Like

    1. जी शुक्रिया 😊

      Liked by 1 person

  2. बहुत ही अच्छा लिखा है आपने Veronica beta.

    Liked by 2 people

    1. शुक्रिया माँ-सी | बस आप अपना आशीर्वाद मेरे साथ रखना | 😇

      Like

  3. ravish kumar says:

    wah bahoot acche

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s