एक सच ब्यान करती हूँ…

सागर  की  गहरायी  सा,  मैं  एक  सच  ब्यान  करती  हूँ 

आज  भी  तेरी  झूठी  बातों  से, उस  गहराई  जितना  डरती हूँ |

ख़ामोशी  में, हर  बात  के  हर  अल्फ़ाज़  सा, शोर  ब्यान करती हूँ 

आज  भी  तेरे  खत  पढ़ कर, तुझे  महसूस  कर आहें  भरती हूँ |
इस  दूरी  में  करीब  होने  के  संदेह  सा, किस्सा  ब्यान करती  हूँ 

आज  भी  ख्वाबों  में  मिलकर, तुझसे  अपनी  सारी  बातें करती  हूँ |

 
उन  साथ  बिताये  लम्हो  के  एहसास  सा, छल  ब्यान करती  हूँ 

आज  भी  उन्हें  याद  कर, उसी  घने  पेड़  से  मुलाकातें करती  हूँ |
वो  सभी  तुझसे  बांटी  हुई  बातों  सा, एक  नगमा  ब्यान करती  हूँ 

उसी  नगमे के  सुर  ढूंढ  कर, आँखों  से  बरसातें  करती  हूँ| 

हर  वो  जाग  कर  बितायी  रात  सा, मैं  अँधेरा  ब्यान करती हूँ 

उसी  धुंधले  अँधेरे  के  साथ, तेरे  शिक्वों  की  पनाहें  करती हूँ |

Advertisements

22 Comments Add yours

  1. वाह लाज़वाब 👌💐💐💐😊😊

    Liked by 1 person

    1. शुक्रिया 😊

      Liked by 1 person

  2. Ajay Vyas says:

    bahut khub 🙂

    Liked by 1 person

  3. bohot khoob, humne bhi likhna chalu kiya hai. please have a look.

    Liked by 1 person

    1. Ji shukriya. Zrur padhungi mein😊

      Like

  4. rahul chawla says:

    आपकी पंक्तिया अपनी खूबसूरती खुद व्याख्यान करती है।
    में तारीफ करु न करु ये खुद बयान करती है ।।

    Liked by 1 person

    1. जी बहुत बहुत शुक्रिया लेकिन मुझे आपके genuine reviews की हमेशा प्रतीक्षा रहती है | 😊😇

      Liked by 1 person

  5. Rekha Sahay says:

    वाह क्या बात है !!!!

    Liked by 1 person

    1. जी शुक्रिया 😊

      Liked by 1 person

  6. Hw sweet.. Kya likhti ho aap… Very nice veronica Garg

    Liked by 1 person

  7. Pleasure to read such thought, well wht u do Veronica…. ☺

    Like

  8. अच्छा लिखा है आपने।

    Liked by 1 person

    1. धन्यवाद माँ-सी, बहुत दिन बाद आपकी कोई प्रतिक्रिया हुई, सब कुशल है ना?

      Like

      1. हाँ मेरी बहन का सलेक्शन I. F. S में हो गया है उसी खुशी में और बच्चों के न्यू सेंसनस शुरू हो गया है उसी में व्यस्त थी। और कभी कभी तुम्हारा ब्लॉग ओपन नहीं होता मुझे समझ में नहीं आता ऐसा क्यों होता है?

        Like

      2. wow, masi unhe bahut bahut shubhkamnayien dijiye 🙂
        hanji ye issues kabhi kabhi aate hain, mera blog open nahin hota..pta nahin kyun?

        Like

  9. परिश्रम ही सफलता की कुंजी है। मैंने लिखा है। उसमें मेरी बहन की और मेरा पीक ओरिजिनल है। पढकर बताना कैसा लगा?

    Liked by 1 person

    1. ji zrur, mene dekha nahin shayad

      Like

    1. Thanks a ton! 😊

      Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s