आज भी प्यार आता है..!

Note: This is from a behalf of a child who was disowned by own parents because she was a girl child.

ठुकरा दिया था जिन्होंने यूँ ही एक पल में

आज क्यों उन पर मुझे इतना प्यार आता है

हाँ जो भी शिकायतें थी उन्हें मुझसे

कही क्यों नहीं , मन में यही सवाल आता है |

जिस ज़िन्दगी से रूबरू मुझे उन्होंने करवाया था

उस ज़िन्दगी को मिट्टी सा बना कर उन्हें करार आता है

यादों के साये में झुंझला कर उठती हूँ जब

दिल उसी तकलीफ में खुद को हर बार पाता है |

आज एक मौसम गुज़र गया , मेरे कल की तरह

क्यों ये गुज़रा हुआ पल एक नया उपहार लाता है

जब कभी अंधेरों में उनकी चमक देखती हूँ

हमेशा ही मेरा कल मुझे बेशुमार सताता है |

दिल के जो ज़ख़्म हैं , उन्हें भरने को वक़्त तो लगेगा

उस ज़ख़्म का दर्द मेरे प्यार की हार जताता है

अपने शिकवे मैं सुनाऊ भी तो क्या किसी को

जिन्हें सुनाना चाहती हूँ, उन पर आज भी प्यार आता है |

Advertisements

9 Comments Add yours

  1. WittyAyJ says:

    so emotional and touching lines…nice work !!

    Liked by 1 person

    1. veronicagarg says:

      Thanks a ton. 😊

      Liked by 1 person

  2. Rekha Sahay says:

    प्यारी सी कविता है। खुबसूरत शब्द अौर उससे भी खुबसूरत भाव के साथ……..

    Liked by 1 person

    1. veronicagarg says:

      जी धन्यवाद | Means a lot 😊

      Liked by 1 person

      1. Rekha Sahay says:

        Welcome. You deserve this.

        Liked by 1 person

      2. veronicagarg says:

        Thanks a ton😇

        Liked by 1 person

      3. Rekha Sahay says:

        You are welcome.

        Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s