खो दिया उसे..!!

मैंने उसे थोड़ा सा जो पाया था
उस थोड़े का बहुत खो दिया है,
वो शक़्स जो कभी मेरा अपना था
उसी ने आज बेगाना बना दिया है |
कोई गलती थी मेरी अपनी ही शायद
शायद उसे कोई मेरी बात चुभी थी,
उसे भी तो उतनी ही तकलीफ होगी शायद
शायद उसके दिल में कुछ नाराज़गी थी |
हैं जो रंजिशें क्या ख़त्म न होंगी
वो हुआ जिन लम्हो का खेयाल भी न था,
क्या ये शिकायतें वहां कभी जुबां न होंगी
शिकवे का जिन दिलों में तिनका भी न था |

Advertisements

2 Comments Add yours

  1. आपने बहुत अच्छा लिखा है। आपकी फीलिंग्स मेरे से मैच कर रही है।

    Liked by 1 person

    1. veronicagarg says:

      सुन कर अच्छा लगा | शुक्रिया |

      Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s